गुरुवार, 28 मई 2020

ग़ज़ल 147 बात दिल पे लगा के

- बह्र-ए-ख़फ़ीफ़ मुसद्दस मख़्बून महज़ूफ़
2122---1212---22
फ़ाइलातुन---मफ़ाअ’लुन--फ़अ’ लुन
------------------

ग़ज़ल  147 : बात दिल पे लगा के--

बात दिल पे लगा के बैठे हैं
हाय ! वो ख़ार खा के बैठे हैं

ज़ख़्म-ए-दिल हम दिखा रहें हैं इधर
वो उधर मुँह फ़ुला के बैठे हैं

ग़ैर को आप का करम हासिल
सोज़-ए-दिल हम दबा के बैठे हैं

देखते हैं कि क्या असर उन पर ?
हाल-ए-दिल हम सुना के बैठे हैं

रुख़ से पर्दा ज़रा हटा उनका
होश हम तो गँवा के बैठे हैं

राह-ए-दिल से कभी वो गुज़रेंगे
हम इधर सर झुका के बैठे हैं

इश्क़ में होश ही कहाँ ’आनन’
खुद ही ख़ुद को भुला के बैठे हैं

-आनन्द,पाठक---

शब्दार्थ
सोज़-ए-दिल = दिल की आग प्रेम की
                  = प्रेमाग्नि

कोई टिप्पणी नहीं: