ग़ज़लें

ग़ज़ल 001 :चाँदी की तश्तरी में --        -65A
ग़ज़ल 002 : रह कर भी समन्दर में           
ग़ज़ल 003 : पंडित ने कहा इधर से है---66A
ग़ज़ल 004 : मोहन के बाँसुरी की---       61A
ग़ज़ल 005 : तुम मिली तो मिली ज़िन्दगी---        02B  
ग़ज़ल 006 : ज़माने की अगर हम बेरुख़ी से---   01B
ग़ज़ल 007 : हमें मालूम है संसद में फिर 02A
ग़ज़ल 008 : ईमान कहाँ देखा ---            18A
ग़ज़ल 009 : आँधियों से न कोई गिला---             06B
ग़ज़ल 010 : रक़ीबों से क्या आप फ़रमा ----       07B
ग़ज़ल 011 : यहाँ लोगों की आँखों में --               08B
ग़ज़ल 012 : जुनून-ए-इश्क़ में हमने                   09B
ग़ज़ल 013 : लबों पर दुआएँ--                            10B
ग़ज़ल 014 :जहाँ पर तुम्हारे सितम --                 05B
ग़ज़ल 015: ग़म-ए-दौराँ से--                              11B
ग़ज़ल 016 : तुमको ख़ुदा कहा है--                     12B
ग़ज़ल 017 : चलो छोड़ देंगे --                            13B
ग़ज़ल 018 : न पर्दा उठेगा--                              14B
ग़ज़ल 019 : वह उसूलों पर चला है --08A
ग़ज़ल 020 : संदिग्ध आचरण है ---   29A
ग़ज़ल 021 : लहरों के साथ वह भी--  46A
ग़ज़ल 022 : मुहब्बत की जादू बयानी न--           15B
ग़ज़ल 023 :आते नहीं है मुझको--                      16B
ग़ज़ल 024 : जब से उनकी आत्मा है-- 45A
ग़ज़ल 025 : चुनावों के मौसम --                        18B
ग़ज़ल 026 : आप इतना ख़ौफ़ क्यों                     19B
ग़ज़ल 027 : मैं इस शह्र-ए-उमरा में--                  17B
ग़ज़ल 028 : पागलों सी बात करता है--11A
ग़ज़ल 029 : सोचता हूँ इस शह्र में --    23A
ग़ज़ल 030 : लोग अपनी ही सुनाने में ---                            37C
ज़ल 031 :  ऐसी भी हो ख़बर--                            20B
ग़ज़ल 032 : ख़यालों में जब से वो आने ---               21B
ग़ज़ल 033 : वो मुखौटे बदलता रहा --                    22B
ग़ज़ल 034 : महल की बुनियाद--         37A
ग़ज़ल 035: लोग अपनी बात कह कर --                  23B
ग़ज़ल 036 : इज़हार-ए-मुहब्बत के--                       24B
ग़ज़ल 037 : वह आम आदमी है --                          25B
ग़ज़ल 038 : बदली हुई जो आप की--   56A
ग़ज़ल 039 : आप मुझको सामने पाते--  54A
ग़ज़ल 040 : बहुत से रंज़-ओ-ग़म ऐसे --                    26B
ग़ज़ल 041 : कोई नदी जो उनके दर से--09A
ग़ज़ल 042 : क्या करेंगे आप से हम--     31A
ग़ज़ल 043 : चौक पे कन्दील जब ---                        27B
ग़ज़ल 044 : मेरे ग़म में वो आँसू बहाने लगे                28B
ग़ज़ल 045 : फिर जली कुछ बस्तियाँ      03A
ग़ज़ल 046 : रोशनी से कब तलक---                        29B
ग़ज़ल 047 :वो चाहता है तीरगी--                             04B
ग़ज़ल 048 : दर्द-ए-उल्फ़त है ---                             37B
ग़ज़ल 049 : आदर्श की किताबें---                           31B
ग़ज़ल 050 : वो शहादत पे सियासत --                     33B
ग़ज़ल 051 : आप हुस्न-ओ-शबाब रखते हैं                32B
ग़ज़ल 052 : गो धूप तो हुई है---                               35B                           
ग़ज़ल 053 : तुम्हारा शौक़ ये होगा--                         36B
ग़ज़ल 054 : मेरे दिल की धड़कन ने--                      03B
ग़ज़ल 055 : नाम ले कर बुला गया कोई--                30B
ग़ज़ल 056 :ये बाद-ए-सबा है--                                       02C
ग़ज़ल 057 :राह अपनी वो चलता--
ग़ज़ल 058 : इक धुआँ सा उठा दिया--                            03C
ग़ज़ल 059 :अब तो उठिए बहुत सो लिए--                       04C
ग़ज़ल 060 :वही मुद्दे वही वादे                                         05C
ग़ज़ल 061 : आज फिर से मुहब्बत                                  06C
ग़ज़ल 062 : ऐसे समा गए हो                                          07C
ग़ज़ल 063 : तलाश जिसकी थी                                       08C
ग़ज़ल 064 :  चेहरे पे था निक़ाब---                                  09C
ग़ज़ल 065 : फिर से नये चिराग़ जलाने--                          11C
ग़ज़ल 066 : दो दिल की दूरियों से--                                 10C
ग़ज़ल 067 : इधर गया या उधर गया--                             36C
ग़ज़ल 068 : रूठे हुए हैं यार--                                        32C
ग़ज़ल 069 :औरों की तरह हाँ में मैने--                            14C
ग़ज़ल 070 : जादू है तो उतरेगा ही--                                15C
ग़ज़ल 071  :तेरे बग़ैर भी कोई तो --                                16C
ग़ज़ल 072 : और कुछ कर या न कर--                            17C
ग़ज़ल 073 : रास्ता इक और आएगा निकल--                   18C
ग़ज़ल 074 : अगर आप जीवन में होते न दाख़िल--            19C 
ग़ज़ल 075 : वो जो राह-ए-हक़ चला है उम्र भर--             20C
ग़ज़ल 076 : उन्हे हाल अपना सुनाते भी क्या--                21C
ग़ज़ल 077 : कहाँ तक रोकता दिल को--                        23C
ग़ज़ल 078 : इलाही ये कैसा मंज़र है-                            24C
ग़ज़ल 079 : यूँ तो तेरी गली से---                                   25C
ग़ज़ल 080 : अगर सोच में तेरी पाकीजगी है--                26C
ग़ज़ल 081 : सपनों में लोकपाल था--                            28C
ग़ज़ल 082 : निक़ाब-ए-रुख़ से--                                   27C
ग़ज़ल 083 : नहीं उतरेगा अन कोई फ़रिश्ता--               30C
ग़ज़ल 084 : जो जागे हुए हैं--                                        29C
ग़ज़ल 085 : यकीं  होगा नहीं तुम को--                         31C
ग़ज़ल 086 : हौसला है दो हथेली है--                            32C
ग़ज़ल 087 : ज़रा हट के ज़रा बच के -[हास्य]                33C
ग़ज़ल 088 : ज़िन्दगी ना हुई बेवफ़ा आजतक--              34C
ग़ज़ल 089 : मिल जाओ अगर तुम तो--                        42C
ग़ज़ल 090 : कहने को कह रहा है--                            45C
ग़ज़ल 091 : दिल न रोशन हुआ--                                43C
ग़ज़ल 092 : वो जो चढ़ रहा था--
ग़ज़ल 093 : ये गुलशन तो सभी का है--                      39C
ग़ज़ल 094 : बहुत हो चुकी     --                                40C
ग़ज़ल 095 : छुपाते ही रहे--                                     44C
ग़ज़ल 096 : मिलेगा जब भी वो हम से--                     41C
ग़ज़ल 097 : ये कैसी रस्म-ए-उल्फ़त है--                    46C
ग़ज़ल 098 : कौन बेदाग़ है दाग़ दामन नहीं--            50C
ग़ज़ल 099 : ये आँधी ये तूफ़ाँ--                                47C
ग़ज़ल 100 : आँख मेरी भले अश्क से नम नहीं--        48C
ग़ज़ल 101 : झूठ का जब धुआँ---                            49C
ग़ज़ल 102 : पयाम-ए-उलफ़त मिला तो होगा--        22C
ग़ज़ल 103 : हुस्न उनका जल्वागर था--
ग़ज़ल 104 : जड़ों तक साजिशें गहरी--      04A
ग़ज़ल 105 : वातानुकूलित आप ने आश्रम--55A
ग़ज़ल 106 : तुम भीड़ ख़रीदी देखे हो--       05A
ग़ज़ल 107 : एक समन्दर मेरे अन्दर--                        01C
ग़ज़ल 108 : वक़्त सब एक सा नहीं रहता--
ग़ज़ल 109 : आज इतनी मिली है ख़ुशी आप से--   109C
ग़ज़ल 110 : राम की बात करते हैं--                       110C
ग़ज़ल 111 : लोग क्या क्या नहीं कहा करते--             38C
ग़ज़ल 112 : इधर आना नहीं ज़ाहिद--                    112C
ग़ज़ल 113 : हाथ क्या उनसे मिलाते--                    34B
ग़ज़ल 114 : आदमी से क़ीमती हैं कुर्सियाँ    22A
ग़ज़ल 115 : बेसबब उनको जो मेहरबाँ देखा--24A
ग़ज़ल 116 : रोशनी के नाम से डरता है--        25A
ग़ज़ल 117 : कहाँ आवाज़ होती है --                    117C
ग़ज़ल 118 : रँगा चेहरा--                                    118C
ग़ज़ल 119 : झूठ का है जो फ़ैला--
ग़ज़ल 120 : दुनिया से जब चलूँ मैं-                   26A
ग़ज़ल 121 : सपनों के रखे गिरवी--                07A
ग़ज़ल 122 : हुस्न हर उम्र में जवाँ देखा--    50A
ग़ज़ल 123 : साज़िश थी अमीरों की--            10A
ग़ज़ल 124 : सलामत पाँव हैं जिन के--            12A
ग़ज़ल 125 : जान-ए-जानाँ से मैं क्या माँगू--                
ग़ज़ल 126 : मैं अपना ग़म सुनाता हूँ--                        02 D
ग़ज़ल 127 : सब को अपनी अपनी पड़ी है -                99 D
ग़ज़ल 128 : इश्क़ करना ख़ता क्यों है--                      44 D
ग़ज़ल 129 : दुश्मनी कब तक निभाओगे कहाँ तक      05D
ग़ज़ल 130 : क़ानून की नज़र में --                              06D
ग़ज़ल 131 : झूठ इतना इस तरह बोला गया--              07D
ग़ज़ल 132 : भले ज़िन्दगी से हज़ारों शिकायत--            08D
ग़ज़ल 133 : मेरे जानाँ न आज़मा मुझ को--                  09D
ग़ज़ल 134 :  नहीं जानता मैं कौन हूँ                            10D
ग़ज़ल 135 : तेरे हुस्न की सादगी --                              11D
ग़ज़ल 136 : तुम्हारे हुस्न से जलती हैं--                         12D
ग़ज़ल 137 : क्या कहूँ मैने किस पे लिखी है ग़ज़ल--      13D
ग़ज़ल 138 : दिल खुद ही तुम्हारा आदिल है--              14D
ग़ज़ल 139 : दिल में इक अक्स जब उतरा--                15D
ग़ज़ल 140 : आदमी का कोई अब भरोसा नहीं-           16D
ग़ज़ल 141 : धूल की पर्त जो  उतर जाए--                    17D
ग़ज़ल 142 : आप से क्या मिले--                                 18D
ग़ज़ल 143 : आइने आजकल ख़ौफ़ खाने लगे-            09D
ग़ज़ल 144 : रोशनी मद्धम नहीं करना--XX  01A
ग़ज़ल 145 : लगे दाग़ दामन पे --                               20D
ग़ज़ल 146 : क़ातिल के हक़ में लोग                           21D
ग़ज़ल 147 : बात दिल पे लगा के बैठे हैं                      22 D
ग़ज़ल 148 : ज़िन्दगी ना हुई बावफ़ा आजतक--          23D
ग़ज़ल 149 : मुहब्बत जाग उठी दिल में--                   24D
ग़ज़ल 150 : फ़ुरसत कभी मिलेगी जो                        25D
ग़ज़ल 151 : आई ख़बर इधर नई कल --                   26D
ग़ज़ल 152 : चाहे ग़म था ख़ुशी कट गई ज़िन्दगी-       34-D
ग़ज़ल 153 : दीदार-ए-हक़ में दिल को अभी--          28D
ग़ज़ल 154 : ज़िन्दगी से हमेशा बग़ावत रही--           29D
ग़ज़ल 155 : बेज़ार हुए क्यों तुम --                           30D
ग़ज़ल 156 : फिर वही इक नया बहाना है                31D
ग़ज़ल 157 : सारी ख़ुशियाँ इश्क़-ए-कामिल             32D
ग़ज़ल 158 : ज़माने से जमी है बर्फ़--                       33D
ग़ज़ल 159 : रफ़्ता रफ़्ता कटी ज़िन्दगी                     27D
ग़ज़ल 160 : ख़ुशी मिलती है उनको                         35D
ग़ज़ल 161 : न उतरे ज़िन्दगी भर जो--                    36D
ग़ज़ल 162 : इक क़लम का सफ़र---                       01E
ग़ज़ल 163 : इश्क़ की राह पर चल दिए--                38
ग़ज़ल 164 : जब कभी सच फ़लक से --                 39D
ग़ज़ल 165 : दुआ कर मुझे इक नज़र देखते हैं          93D
ग़ज़ल 166 : सर्द रिश्तें भी हों ,मगर रखना                41D
ग़ज़ल 167 : मुहब्बत में दिवानों को  38A
ग़ज़ल 168 : सभी ग़म एक से होते                 D
ग़ज़ल 169 : अगर ढलान से दर्या ढला                     04D
ग़ज़ल 170 : उँगलिया वो सदा उठाते हैं                    43D
ग़ज़ल 171 : आंकड़ों से हक़ीक़त छुपाना भी  क्या    46 D
ग़ज़ल 172 : जो कहा तुम ने                                  47 D
ग़ज़ल 173 : पास मेरे था उसका पता उम्र भर        48D
ग़ज़ल 174 : किसी के प्यार में ये दिल                   49D
ग़ज़ल 175 : लोग हद से गुज़रने लगे हैं                 50D
ग़ज़ल 176 : अहमक लोगों को कुर्सी पर               51D
ग़ज़ल 177 : हर बात पे नुक़्ता-चीं                         52 D
ग़ज़ल 178 : अपना ही क्यॊं हरदम                       53 
ग़ज़ल 179 : ग़ज़ल हुई तो यक़ीनन                      54 D
ग़ज़ल 180 : वह शख़्स देखने में तो                      55 D
ग़ज़ल 181 : रिश्तों की बात कौन                          56D
ग़ज़ल 182 : जब हाँ में हाँ किया तो                       57D
ग़ज़ल 183 : सौगन्ध संविधान की खाता                58 D
ग़ज़ल 184 : लख़्त-ए-जिगर का खोना                  59D
ग़ज़ल 185 : पहले थी जैसी अब वो                       60D
ग़ज़ल 186 : तुम नादाँ हो ,नावाक़िफ़ हो               61D
ग़ज़ल 187 : वह रंग बदलता है सियासत              62D
ग़ज़ल 188 : अगर मिलते न तुम मुझ को              63D
ग़ज़ल 189 : जो रंग अस्ल है वो दिखाएगा            64 D
ग़ज़ल 190 : बगुलों की मछलियों से                    65D
ग़ज़ल 191 : चाह अपनी कभी छुपा न                 66D
ग़ज़ल 192 : अभी नाज़-ए-बुतां देखूँ                    67D
ग़ज़ल 193 : आप महफ़िल में जब भी -               68D
ग़ज़ल 194 : ख़ामोश रहोगे तुम                           69D
ग़ज़ल 195 : जो शख़्स पढ़ रहा था--                   70 D
ग़ज़ल 196 : किसी की वफ़ा हूं                            71D
ग़ज़ल 197 : वो अँधेरों में इक रोशनी                   72D
ग़ज़ल 198 : तेरे इश्क़ में इब्तिदा से हूँ                73D
ग़ज़ल 199 : कहीं तुम मेरा आइना तो -              74D
ग़ज़ल 200 : बदल गईं जब तेरी निगाहें               75D
ग़ज़ल 201: मुहब्बत  की उसने सज़ा जो            76D
ग़ज़ल 202: बात यूँ ही निकल गई होगी              77D
ग़ज़ल 203: आप के आने से पहले                     78D    
ग़ज़ल 204: ख़ामोश रहे कलतक
ग़ज़ल 205: तुम्हे जबतक ख़बर होगी        19A
ग़ज़ल 206: जो बर्फ़ पड़ी दिल पे 62A
ग़ज़ल 207: आदमी में आदमियत            20A
ग़ज़ल 208: गुमराह हो गया तू बातों में              79D
ग़ज़ल 209: कथनी में क्या क्या न कहा    57A
ग़ज़ल 210: हर सिम्त धुआँ उठता                     80D
ग़ज़ल 211: दो चार गाम रह गया था    17A
ग़ज़ल 212: तुम पास ही खड़ी थी        16A
ग़ज़ल 213: हर बार काठ की हांडी    15A
ग़ज़ल 214: दीवार खोखली है             27A
ग़ज़ल 215: दूर जब रोशनी नज़र आई             81D
ग़ज़ल 216: झूठ पर झूठ वह बोलता                 82D
ग़ज़ल 217: जीवन के सफ़र में यूँ
ग़ज़ल 218: तुमको न हो यक़ीन मुझे तो            83D
ग़ज़ल 219: सितम मुझ पर हज़ारों थे                 84D
ग़ज़ल 220: ज़ुल्मात में मशाल जलाती रही         85D
ग़ज़ल 221: न रूठो तुम चली आओ                  86D
ग़ज़ल 222: करें जब गोपियों की चूड़ियाँ    =       01D
ग़ज़ल 223: अनाड़ी था नया था राहबर                87D
ग़ज़ल 224: एक रिश्ता जो ग़ायबाना है                88D
ग़ज़ल 225: मुलव्विस हूँ हमेशा मैं                        89D
ग़ज़ल 226: बुज़ुर्गों की दुआएँ हो तो                    90D
ग़ज़ल 227: यूँ उनकी शान के आगे                    91D
ग़ज़ल 228: सबक़ उल्फ़त का दुहराते                92D
ग़ज़ल 229: अगर सच से न घबराते                     40D
ग़ज़ल 230: ख़ुदाया काश वह मेरा                        94D
ग़ज़ल 231: हस्र-ए-उल्फ़त तुम्हे पता होगा            95D
ग़ज़ल 232: हमारी सोच में चन्दन की ख़ुशबू           96D
ग़ज़ल 233: जन्नत से वो निकाले                             97D
ग़ज़ल 234: ज़िन्दगी ग़म भी शादमानी भी               98D 
ग़ज़ल 235: हालात-ए-ख़ुमारी में                            03D        
ग़ज़ल 236: तुम्हारी ज़ुल्फ़ को छू कर                     37D
ग़ज़ल 237: मुहब्बत में अब वो इबादत कहाँ              02E
ग़ज़ल 238: सुरूर उनका जो मुझ पर चढ़ा नहीं          03E
ग़ज़ल 239: इश्क़ रुस्वा नहीं हुआ होता                      04E
ग़ज़ल 240: दिल ने जो कहा मुझ से                            05E
ग़ज़ल 241: तुम्हारी जालसाजी में उन्हे कुछ                 06E
ग़ज़ल 242: कटी उम्र उनको बुलाते बुलाते                  07E
ग़ज़ल 243: नई जब राह तू चल                                  08E
ग़ज़ल 244: वक़्त देता वक़्त आने पर सज़ा है                09E
ग़ज़ल 245: चुभी है बात उसे कौन सी                          10E
ग़ज़ल 246: दर्द-ए-दिल जगा के रखते हैं                      11E
ग़ज़ल 247: आप से दिल लगा के बैठे हैं                       12E
ग़ज़ल 248: बीज नफ़रत के बोए जाते हैं                       13E
ग़ज़ल 249: आप को राज़-ए-दिल बताना क्या               14E
ग़ज़ल 250: कोई रहता मेरे अन्दर                                15E
ग़ज़ल 251: धुन्ध फ़ैला फ़ैलता ही जा रहा है                  16E
ग़ज़ल 252: यह नज़्म ज़िन्दगी की                                17E
ग़ज़ल 253: क्या हाल-ए-दिल सुनाऊँ                           18E
ग़ज़ल 254: जो हो रहा है उस पे कहा कीजिए हुज़ूर      19E
ग़ज़ल 255: उनसे हुआ है आज तलक सामना नहीं       20E
ग़ज़ल 256: सिर्फ़ आसमान में न उड़ा कीजिए जनाब    21E
ग़ज़ल 257: हर बार अपनी पीठ स्वयं थपथपा रहा        22E
ग़ज़ल 258:जब नाम ले के तुमने                                 23E
ग़ज़ल 259: ज़ाहिदों की बात में क्यों आ रहा है             24E   
ग़ज़ल 260: कुछ और सफ़ाई में कहता                       25E
ग़ज़ल 261: मज़हबी जो भी मसाइल आप समझें          26E
ग़ज़ल 262: कोई दर्द अपना छुपा कर हँसा है              27E
ग़ज़ल 263: बात दिल की सुना करे कोई                     28E
ग़ज़ल 264 : आप से हाल-ए-दिल छुपा है क्या              29E
ग़ज़ल 265: उनकी इशरत शादमानी और है                30E
ग़ज़ल 266: वह क़ैद हो गया है                                   31E
ग़ज़ल 267: उजालों को तुम ने आने दिया                    32E
ग़ज़ल 268: ये बात और थी                                        33E
ग़ज़ल 269: आप की बात में वो रवानी लगी                 34E
ग़ज़ल 270: तू उतना ही चलेगा जितना---                   35E
ग़ज़ल 271: इक अजब अनजान सा रहता है डर         36E
ग़ज़ल 272; ज़िंदगी रंग क्या क्या दिखाने लगी             37E
ग़ज़ल 273
ग़ज़ल 274
ग़ज़ल 275
ग़ज़ल 276
ग़ज़ल 277
ग़ज़ल 278
ग़ज़ल 279
ग़ज़ल 280











A=  अभी संभावना है [ गीत ग़ज़ल संग्रह ]
B=   मैं नहीं गाता हूँ [ गीत ग़ज़ल संग्रह ]
C=   एक समन्दर मेरे अन्दर [[ गीत ग़ज़ल संग्रह ]
D= मौसम बदलेगा [ गीत ग़ज़ल संग्रह ]
E =  क़लम का सफ़र [ गीत ग़ज़ल संग्रह]-प्रस्तावित

कोई टिप्पणी नहीं: