सोमवार, 23 मई 2022

ग़ज़ल 240 [05E] : दिल ने जो कहा मुझसे--

 ग़ज़ल 240 [05E]


221---1222 // 221--1222


दिल ने जो कहा मुझसे, मैं काश ! सुना होता

दुनिया को समझने में धोखा न हुआ होता


करता भी वुज़ू कैसे, मन साफ़ नहीं था जब

दिल और कहीं हो तो, क्या सज्दा भला होता


तक़रीर तेरी ज़ाहिद माना कि सही लेकिन

मेरा भी सनम कैसा, मुझसे भी सुना होता


कूचे से तेरे गुज़रा,  याद आए गुनह मेरे

दिल साफ़ रहा होता ,नादिम न हुआ होता


आग़ाज़-ए-मुहब्बत का होता है मुहूरत क्या

शिद्दत से कभी तुमने आग़ाज़ किया होता


औरों की तरह तुमने अपना न मुझे समझा

जो बात दबी दिल में ,मुझसे तो कहा होता


दुनिया के मसाइल में, उलझा ही रहा ’आनन’

फ़ुरसत जो मिली होती, दर तेरे गया होता ।


-आनन्द.पाठक-

वुज़ू = नमाज़ के पहले शुद्ध होना

तक़रीर = प्रवचन

आग़ाज़  = शुरुआत

मसाइल = मसले

पोस्टेड 18-06-22

कोई टिप्पणी नहीं: