गुरुवार, 14 सितंबर 2023

ग़ज़ल 340 [16F]: क्यों अँधेरों में जीते हो मरते हो तुम

 ग़ज़ल  340[16F]

२१२---२१२---२१२---२१२


क्यों अँधेरों में जीते हो मरते हो तुम

रोशनी की नहीं बात करते हो तुम


रंग चेहरे का उड़ता क़दम हर क़दम

सच की गलियों से जब भी गुज़रते हो तुम


कौन तुम पर भरोसा करे ? क्यों करे?

जब कि हर बात से ही मुकरते हो तुम


राह सच की अलग, झूठ की है अलग

राह ए हक  पर भला कब ठहरते हो तुम ?


वो बड़े लोग हैं, उनकी दुनिया अलग

बेसबब क्यों नकल उनकी करते हो तुम ?


वक़्त आने पे लेना कड़ा फ़ैसला

उनके तेवर से काहे को डरते हो तुम ?


तुमको उड़ना था ’आनन; नहीं उड़ सके

तो परिंदो के पर क्यों कतरते हो तुम ?


-- आनन्द,पाठक--


कोई टिप्पणी नहीं: