शनिवार, 15 जुलाई 2023

ग़ज़ल 330[ 06 F] : देखा जो कभी तुम ने

 ग़ज़ल 330[ 06 F]


221---1222--// 221--1222


देखा जो कभी तुमको, खुद होश गँवा बैठे

क्या तुमको सुनाना था ,क्या तुमको सुना बैठे


कुछ बात हुआ करतीं पर्दे की तलब रखती

यह क्या कि समझ अपना, हर बात बता बैठे


मालूम हमें क्या था बदलेगी हवा ऐसी

हर बार हवन करते, हम हाथ जला बैठे


यह राह फ़ना की है, अंजाम से क्या डरना

जिसका न मुदावा है, वह रोग लगा बैठे


रोके से नहीं रुकता, लगता न लगाने से

इस बात से क्या लेना, दिल किस से लगा बैठे


चाँदी के क़लम से कब, सच बात लिखी तुमने

सोने की खनक पर जब दस्तार गिरा बैठे


उम्मीद तो थी तुम से, तुम आग बुझाओगे

नफ़रत को हवा देकर तुम और बढ़ा बैठे ।


आदात तुम्हारी क्या अबतक है वही 'आनन'

कोई भी  मिला तुम से बस दर्द सुना बैठे ?


-आनन्द.पाठक-

शब्दार्थ
दस्तार = पगड़ी, इज्जत

मुदावा = इलाज


कोई टिप्पणी नहीं: