शुक्रवार, 29 जनवरी 2021

अनुभूतियाँ 03

अनुभूतियाँ 03


01

 रिश्ते नाते प्रेम स्नेह सब 

 शब्द बचे, निष्प्राण हुए हैं

 जाने क्यों ऎसा लगता है 

 मतलब के उपमान हुए हैं


02

राजमहल है मेरी कुटिया

दुनिया से क्या लेना देना,

मन में हो सन्तोष अगर तो

काफी मुझ को चना चबेना


03

कतरा क़तरा आँसू मेरे 

जीवन के मकरन्द बनेंगे

सागर से भी गहरे होंगे

पीड़ा से जब छन्द बनेंगे 


04

सबके अपने अपने  सपने

सब के अपने अपने ग़म हैं

 एक नहीं  तू ही दुनिया में

आँखें रहती जिसकी नम हैं


-आनन्द.पाठक-


कोई टिप्पणी नहीं: