शनिवार, 19 जून 2021

अनुभूतियाँ : क़िस्त 08

 

अनुभूतियाँ : क़िस्त 08

 

1

दोनों के जब दर्द एक हैं,

फिर क्यों दिल से दिल की दूरी

एक साथ चलने में क्या है ,

मिलने में हैं क्या मजबूरी ?

 

2

रात रात भर तारे किस की ,

देखा करते  राह निरन्तर  ?

और जलाते रहते ख़ुद को

आग बची जो दिल के अन्दर ।

 

3

कितनी बार हुई नम आँखें,

लेकिन बहने दिया न मैने।

शब्द अधर पर जब तब उभरे 

कुछ भी कहने दिया न मैने ।

 

4

छोड़ गई तुम, अरसा बीता,

फिर न बहार आई उपवन में ।

लेकिन ख़ुशबू आज तलक है,

दिल के इस सूने आँगन  में ।

 

 

-आनन्द.पाठक-

 

कोई टिप्पणी नहीं: