शुक्रवार, 28 जून 2019

चन्द माहिया : क़िस्त 60

चन्द माहिया : क़िस्त 60

:1:
इक ख़्वाब-ए-जन्नत में
डूबा है ज़ाहिद
हूरों की जीनत में
:2:
ये हुस्न की रानाई
नाज़-ओ-अदा फिर क्या
गर हो न पजीराई
:3:
ग़ैरों की बातों को
मान लिया सच क्यों
सब झूठी बातों को

:4:
इतना ही फ़साना है
फ़ानी दुनिया मे
बस आना-जाना है

:5:
तुम कहती, हम सुनते
बीत गए वो दिन
थे साथ सपन बुनते


-आनन्द.पाठक-

कोई टिप्पणी नहीं: