शुक्रवार, 18 दिसंबर 2020

चन्द माहिए : क़िस्त 86

 क़िस्त 86


1

आँखें कुछ कहती हैं

पढ़ जो सको पढ़ लो

ख़ामोश क्यूँ रहती हैं


2

वादा न निभाते हो

तोड़ ही जब देना

क्यों क़स्में खाते हो


3

दिल से दिल की दूरी

तुम ने बना रख्खी

क्या है वो मजबूरी


4

आँखें कुछ कहती हैं

राज़ की बातॊं पर

ख़ामोश क्यों रहती हैं


5

साने से ढला आँचल

कुछ तो कहता है

कुछ समझा कर, पागल !


-आनन्द.पाठक-

कोई टिप्पणी नहीं: