रविवार, 7 मई 2017

चन्द माहिया : क़िस्त 38

चन्द माहिया : क़िस्त 38
:1:

 जिनका हूँ दीवाना
देख रहें ऐसे
जैसे मैं  बेगाना

:2:
कोरी न चुनरिया है
कैसे मैं आऊँ ?
खाली भी गगरिया है

;3:
कुछ भी तो नही लेती
ख़ुशबू गुलशन की
फूलों का पता देती

:4:
दुनिया का मेला है
 अपने ही सब हैं
दिल फिर भी अकेला है

5
केसर की क्यारी में
ज़हर उगाने की
सब हैं तैय्यारी में 


-आनन्द.पाठक-
[सं 15-06-18]

कोई टिप्पणी नहीं: