रविवार, 20 सितंबर 2020

चन्द माहिए : क़िस्त 81

 क़िस्त 81


1

इतना न झुकाओ सर

ध्यान रहे इतना

दस्तार रहे सर पर 


2

हलचल सी है मन में 

महकीं फिर यादें

मन के इस उपवन में 


3

कुछ लुत्फ़-ओ-इनायत भी

होती उल्फ़त में 

कुछ शिकवा शिकायत भी


4

खट्टी मीठी यादें

सोने कब देतीं

देतीं हैं आवाज़ें


5

बदरा बरसै  झम झम

नाचै मन मोरा

पायल बोले  छम छम 


कोई टिप्पणी नहीं: