रविवार, 21 मार्च 2021

अनुभूतियाँ 06 -- होली पर

 

[ होली की अग्रिम  शुभकामनाओं के साथ----

 कुछ अनुभूतियाँ   ----[ होली पर ]

1

खुशियों के हर रंग भरे हैं,

प्रीत मिला कर रंगोली में,

फ़ागुन आया, सपने आए,

तुम भी आ जाते होली में।

 

2

एक बार में धुल जायेगा,

इन रंगों में क्या रख्खा है,

अगर लगाना है तो लगाना,

प्रीत-प्रेम का रंग सच्चा है।

 

3

राधा करतीं मनुहारें हैं,

"देख न कर मुझ से बरजोरी

“छोड़ कलाई ,मोरी कान्हा!

बातों में ना आऊँ तोरी” ।

 

4

होली का मौसम आया है,

फ़गुनह्टा’ आँचल सरकाए।

मादक हुई हवाएँ, प्रियतम !

रह रह कर है मन भटकाए ।

 

5

छोड़ मुझे,जाने दे घर को,

कान्हा ! मार न यूँ पिचकारी।

बड़े जतन से बचा रखी है,

कोरी चुनरिया, कोरी सारी ।

 

-आनन्द.पाठक-

कोई टिप्पणी नहीं: