शुक्रवार, 29 दिसंबर 2023

अनुभूतियाँ 131/18 : राम लला जी के प्राण प्रतिष्ठा पर

 अनुभूतियाँ 131/18 :


:1:

राम लला जी के मंदिर का

संघर्षों की एक कहानी

नई फ़सल अब क्या समझेगी

प्राण दिए कितने बलिदानी 


;2:

पावन क्षण में पावन मन से

पूजन अर्चन शत शत वंदन

स्वागत में हम  खड़े राम के

लेकर अक्षत रोली चंदन 

:3:

जन मन में अब राम बसे हैं

हर्षित हैं सब अवध निवासी

सब पर कृपा राम की होती

जन मानस,साधु सन्यासी 

:4:

रामराज की बातें तब तक

जब तक राम हृदय में बसते

वरना तो कुरसी की खातिर

सबके अपने अपने  रस्ते


:5:
मंदिर का हर पत्थर पावन
प्रांगण का हर रज कण चंदन
हाथ जोड़ कर शीश झुका कर
राम लला का है अभिनंदन


:6:

हो जाए जब सोच तुम्हारी

राग द्वेष मद मोह से मैली

राम कथा में सब पाओगे

जीवन के जीने की शैली ।


:7: 

एक बार प्रभु ऐसा कर दो

अन्तर्मन में ज्योति जगा दो

काम क्रोध मद मोह  तमिस्रा

मन की माया दूर भगा दो ।

-आनन्द.पाठक-



कोई टिप्पणी नहीं: