रविवार, 28 जून 2020

चन्द माहिया : क़िस्त 62


क़िस्त 62

          1
दिन भर का थका होगा
कुछ न हुआ हासिल
दुनिया से ख़फ़ा  होगा

          2
अब लौट के फिर जाना
एक भरम था जग
सच उसको ही माना

3
जब जाना है ,बन्दे !
काट ज़रा अब तो
सब माया के फन्दे

4
तुम को न भरोसा है
कोई इस दिल में
मिलने को रोता है

5
इक मेरी मायूसी
उस पर दुनिया की
रह रह कानाफ़ूसी

कोई टिप्पणी नहीं: