रविवार, 28 जून 2020

चन्द माहिया : क़िस्त 69


क़िस्त 69

1
उस पार सँवरिया है
जाऊँ मैं कैसे
कोरी न चुनरिया है

2
सुन, मेरे दिल-ए-नादाँ
उन बिन जीना क्या
लगता है तुम्हें आसाँ

3
लौ उनकी लगी मन में
अक्स नज़र आया
उनका ही कन कन में

4
ईमान लुटाते हो
नंगे से पहले
नंगे नज़र आते हो

5
जब तक ज़िन्दा ईमां
इंसाँ के अन्दर
तब तक ज़िन्दा इन्साँ



कोई टिप्पणी नहीं: