रविवार, 28 जून 2020

चन्द माहिया :क़िस्त 68


क़िस्त 68
1
दिल ने कब रोका है
राह-ए-मुहब्बत में
दुनिया ने टोका है

2
हल्की हल्की छाया
धूप लगी इतनी
मैं सो भी नहीं पाया

3
हमदम भी वहीं छूटा
दिल में  ख़ुदगरजी
रिश्ता भी वहीं टूटा

4
वादा तो निभाना था
लेकिन कब तुमको
इस दिल में आना था

5
दिन रात की हैं बातें
सोच रहा है दिल
कैसे हो मुलाकातें



कोई टिप्पणी नहीं: