रविवार, 28 जून 2020

चन्द माहिया : क़िस्त 63


क़िस्त 63
1
क्या दर्द सुनाऊँ मैं
कौन सुनेगा याँ
अब किसको सुनाऊँ मैं
2
क्या तुमने था ठाना ?
छोड़ के दुनिया को
चुपके से चले जाना
3       
क्या इतनी जल्दी थी
जाने की तुम को
किसकी पाबन्दी थी
4
जितना भी जिया तुम ने
देने की सोचा
कुछ भी न लिया तुमने
5
दिन रात वही बातें
कैसे गुज़रे दिन
कैसी बीती रातें

कोई टिप्पणी नहीं: