सोमवार, 29 जून 2020

चन्द माहिए : क़िस्त 76

क़िस्त 76

1
पूछो मत सब बातें
कैसे कटती हैं
तुम बिन मेरी रातें

2
सपने तो सुला देंगे
याद तुम्हारी सब
हम कैसे भुला देंगे ?

3
वादा न निभाओगी
झूठी कसमें क्यों ?
खा कर भी न आओगी

4
तनहा तनहा रातें
कोई नहीं जिससे
कर लें दिल की बातें

5
इतने न भले हो तुम
जैसे दिखते हो
भीतर से जले हो तुम

-आनन्द.पाठक-

कोई टिप्पणी नहीं: